बाल झड़ने के कारण रोकथाम और नए बाल कैसे उगाएं - Hair fall reason prevention treatment in hindi


 बाल झड़ने के कारण रोकथाम और नए बाल कैसे उगाएं - Hair fall reason prevention treatment in Hindi






सार-संक्षेप


अगर आप इस लेख को पढ़ रहे हैं तो इसका मतलब है कि आप या आपका कोई खास बाद झड़ने (Alopecia) से परेशान है।  तो सबसे पहले आपको ये जान लेना जरुरी है कि प्रतिदिन १०० बालों का झड़ना पूरी तरह से नार्मल है, और ज्यादातर लोगों में ये झड़े हुए बाल वापस उग जाते हैं।  परन्तु कुछ पुरुषों और महिलाओं में बढ़ती हुई उम्र के साथ बाल भी झड़ने लगते हैं।  और ये भी हो सकता है की किसी बीमारी जैसे की थायरॉइड की समस्या, डायबिटीज या लुपस इनकी वजह से भी बाल झड़ने लगते हैं।  
कुछ मेडिसिन और ट्रीटमेंट की वजह से भी बालों का झड़ना शुरू हो जाता है जैसे अगर आपकी केमोथेरपी चल रही हो।  स्ट्रेस, लो प्रोटीन डाइट, फॅमिली हिस्ट्री और ख़राब नुट्रिशन भी एक कारण हो सकता है बालों के झड़ने का।  

बालों के झड़ने के कारण क्या है? - What causes hail fall ?

 वंशानुगत बालों का झड़ना - Hereditary hair loss

 इस प्रकार के हेयर फाल महिला और पुरुष दोनों में देखा जाता है। अधिकतर लोगो के बाल इसी कारन झड़ते हैं।  पुरुषो में इससे मेल पैटर्न हेयर लॉस और महिलाओं में इसे फीमेल पैटर्न हेयर लॉस कहा जाता है।  मेडिकल भाषा में इससे एंड्रोजेनिक एलोपेसिया के नाम से जाना जाता है।  
इस प्रकार के हेयर फॉल जीन की वजह से होते है।  ये जीन हेयर फॉलिकल (जहा से बाल निकलते हैं) को सिकुड़ा देते हैं।  इस सिकुड़न की वजह से बाल उगना बंद हो जाते हैं।  ये कम उम्र के लोगो में भी देखा जा सकता है लेकिंग लेकिन ज्यादातर ये बढ़ती उम्र के साथ ही होता है।

उम्र के साथ बाल झड़ना - Hair fall with age 


कुछ लोग में बढ़ती उम्र के साथ हेयर लास  देखा जाता है, हेयर की ग्रोथ रेट स्लो होना इसकी मुख्य वजह है। आगे चल कर इसमें ग्रोथ बंद भी हो जाती है जिसके कारण भी बाल्डनेस आ जाती है। 

 

एलोपेशिया एरियाटा - Alopecia areata



ये एक डिजीज है है जिसमे शरीर का इम्यून सिस्टम हेयर फॉलिकल पे अटैक कर देता है जिसकी वजह से हेयर लास देखा जाता है।  इस प्रकार का हेयर लास शरीर के किसी भी हिस्से में देखा जा सकता है, जैसे कि भौहे पलकें कान के बाल नाक के बाल इत्यादि ।   

 

 कैंसर ट्रीटमेंट - Cancer Treatment


ऐसे मरीज जो कैंसर से पीड़ित है (मुख्यतः हेड एंड नेक)और उनकी रेडिओथेरपी या केमोथेरपी चल रही होती है उन मरीजों में भी बालों का झड़ना देखा जाता है।  इस प्रकार के झड़े बाल दवाइयों के साथ जल्दी ठीक हो जाते हैं।  
  


स्कैल्प इन्फेक्शन - Scalp infection


सर के त्वचा में होने वाला इन्फेक्शन भी भाल झड़ने का कारण बन सकता है।  इस प्रकार के इन्फेक्शन में किसी विशेष  जहा  इन्फेक्शन है वहां बाल्डनेस देखा जाता है। जैसे ही इन्फेक्शन ठीक हो जाता है बाल अपने आप बढ़ जाते हैं।  


 हार्मोनल इम्बैलैंस - Hormonal imbalance 


हार्मोनल इम्बैलेंस की के कारण महिलाओं में पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज (PCOD ) नामक एक बीमारी होती है, जिसमे ओवरीज़ में सिस्ट बन जाते है।  इसकी वजह से भी महिलाओ में बाल झड़ने की समस्या देखी जाती है। 

बाल कितने दिनों में बढ़ते हैं? 

अपने यह जरूर सुना होगा कि किसी के बाल धीमे तो किसी के बहुत तेज़ी से बढ़ते हैं।  सबसे पहले तो हम ये जान ले कि बाल अधीर की स्पीड से बढ़ते हैं।  औसतन हमारे बाल 1.25 CM या 0.5 इंच प्रति माह की रेट से बढ़ते हैं। अगर इस प्रकार देखें तो इ साल में 6  इंच या 15 CM  तक बढ़ जाते हैं। 

बाल झड़ने को कैसे रोकें ? How to prevent hair fall in Hindi?

अगर आपको लगता है कि आपके बाल औसत से ज्यादा निकल रहे हैं, तो इन तरीकों से इनका गिरना बंद कर सकते हैं 

तेल मालिश

ये सबसे आसान और घरेलु उपाय है।  तेल मालिश से बालो की जड़ो तक रक्त संचार बढ़ जाता है, जिससे जड़ो को मजबूती मिलती है, और आपके बल झड़ना काम हो जाता है।  मालिश के लिए आप नारियल तेल, जैतून का तेल, आवला  अरंडी के तेल का इस्तेमाल कर सकते है।  इनसे बाल की जड़ें पोषण पाकर मजबूत हो जाती हैं।  

आंवला 

आंवला विटामिन सी का एक प्रचुर स्रोत है।  विटामिन सी की कमी के कारण भी बालों का झड़ना स्टार्ट हो सकता है।  बालों के प्राकृतिक है तेजी से विकास के लिए भी आपको आंवले का इस्तेमाल करें। 

प्याज का रस 

प्याज का रस भी बालों के तेज विकास में लाभदायक होता है।  प्यास को पीस का उसका रस निकल लें और अपने बालों की जड़ो में लगाए।  आधे घंटे बाद धो लें।  

एलोवेरा जेल

एलोवेरा जेल भी आपके बाल झड़ने से रोकने में नहुत उपयोगी होता है।  एलोवेरा जेल स्कैल्प यानि आपके सर के चमडे को ठंडा रहता है।  एलोवरा जेल में 95% से ज्यादा पानी और बहुत सरे एमिनो एसिड पाए जाते हैं, जो स्कैल्प में मॉइस्चर बनाये रखता है और नुट्रिशन भी प्रदान करता है । 


हेयर लॉस का मेडिकल ट्रीटमेंट क्या है ?

अगर आप अपने निकल चुके बालों का इलाज करवाना चाहते है तो आप अपने नजदीकी डर्मेटोलॉजिस्ट से संपर्क करें।  आपका डॉक्टर आपसे निम्नलिखित  टेस्ट करवा सकते है जिनमे शामिल है-
  1. ब्लड टेस्ट 
  2. पुल टेस्ट 
  3. स्कैल्प बायोप्सी 
  4. लाइट माइक्रोस्कोपी 
हेयर लॉस ट्रीटमेंट निम्नलिखित  तरीको से दूर किये जा सकते है -

हेयर ट्रांसप्लांट - Hair transplant 




यह एक सर्जिकल प्रक्रिया होती है जिसमे डॉक्टर आपकी दूसरी जगह (डोनर साइट) से हेयर फॉलिकल निकालकर उसे बाल्ड जगह पर प्रत्यारोपित कर देते है जिससे रिसिपिएंट साइट कहते है। 
ये दो प्रकार की होती है 
  • फॉलिक्युलर यूनिट ट्रांसप्लांटेशन (FUT)
  • फॉलिक्युलर यूनिट एक्सट्रैक्शन (FUE)


प्लेटलेट रिच प्लाज्मा थेरैपी (पीआरपी) PRP


स्कैल्प रिडक्शन सर्जरी Scalp reduction surgery


बाल्ड एरिया को सर्जरी करके निकाल दिया जाता है।  इसे स्कैल्प लिफ्टिंग नाम से भी जाना जाता है। इस प्रक्रिया को तभी अपनाया जाता है जब कम फॉलिकल की वजह से  FUT या FUE के द्वारा ट्रीटमेंट नहीं किया जा सके।

सिंथेटिक हेयर इम्प्लांट Synthetic Hair Implant

ये एक बायोकम्पेटिबल आर्टिफीसियल फाइबर होते है जो हमारे बालों की अपेक्षा ज्यादा मजबूत और ज्यादा दिनों तक चलने लायक होते है।  इन फाइबर की एक तरफ गांठ होती है।  सर्जन एक विशेष मशीन के द्वारा एक एक करके इनको स्कैल्प के भीतर इम्प्लांट कर देते हैं। यह एक माइनर सर्जरी होती है।  सर्जरी के तुरंत बाद आप अपने रोजमर्रा के कार्य कर सकते हैं।  
और नया पुराने