कोविड-19 - संक्रमण लक्षण और बचाव के उपाय - Corona se bachav ke upay hindi

corona-virus-se-bachne-ke-upay

 

कोविड-19 (नोवल कोरोनावायरस रोग) एक गंभीर रोग है, जो 2019 के अंत में शुरू हुआ और दुनिया भर में तेजी से फैल रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोविड-19 को महामारी घोषित कर दिया है। यह श्वसन समस्याओं से जुड़ा होता है, जिसमें आमतौर पर हल्का खांसी, बुखार होता है, लेकिन ये निमोनियों और सांस लेने में परेशानी जैसा गंभीर रूप में ले लेता है। 


इस पोस्ट में हम आपको एक्सपर्ट्स की सलाह के आधार पर तैयार किये गए कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां दे रहें है जो आपको कोरोना जैसी महामारी से बचने में मदद करेगी।  यह जानकारी स्वास्थ्य जन अभियान (जेएसए) के पब्लिक हेल्थ मूवमेंट कोविड एडवाइजरी ग्रुप द्वारा विभिन्न अनुभवी डॉक्टरों, सामाजिक वैज्ञानिकों और कार्यकर्ताओं सहित कई योग्य स्वास्थ्य पेशेवरों के परामर्श से तैयार की गई है। 



कोविड-19 क्या है ? What is Covid-19 In Hindi ?

Covid-19 या कोरोना डिजीज कोरोना वायरस द्वारा फैलाई गयी एक बीमारी है, जो चीन के वुहान में उत्पन्न हुई है। नयी बीमारी होने के कारण इस बीमारी से बचाव के संधाधन भी परिपूर्ण नहीं हैं । हालाकि यह सामान्य सर्दी और फ्लू के समान है, लेकिन कोरोनवायरस वायरस 2019 बहुत तेजी से फैलता है और पहले से ही इसे दुनियाभर में महामारी घोषित किया जा चुका है। 

corona-virus-se-bachne-ke-upay



100 में से लगभग 80-90 लोग, जो इस बीमारी से ग्रसित है , वे सामान्य सर्दी की तरह ही ठीक हो जाएंगे, लेकिन 10 से 20 प्रतिशत लोगों को निमोनिया हो सकता है, जिस कारण उन्हे अस्पताल तक जाना पड़ सकता है। इनमें से 5 से 8 प्रतिशत लोगों को आईसीयू में भर्ती करना पड़ सकता है,  कोरोना से मरने वालों की संख्या 2 से 3 प्रतिशत है । मरने वालों में ज्यादातर वही बुजुर्ग होंगे, जो कमजोर होंगे या जिन्हें दिल की बीमारी, डायबिटीज, ब्लड प्रेशर और किडनी की बीमारियाँ हैं। महामारी के दौरान इन बीमारियों से ग्रसित लोगों को विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। 


कोरोना वायरस का संक्रमण कैसे होता है ?



यह एक तेज़ी से फैलने वाली बहुत ही संक्रामक  बीमारी है।  वे लोग जो इस महामारी के दौरान भी अपने कार्य स्थल पर जाने को मजबूर है, उनमे इस बीमारी के फैलने की ज्यादा संभावनाएं हैं । यह किसी संक्रमित व्यक्ति के स्पर्श से फैलता है, या किसी ऐसी वस्तु या ऐसे स्थान को स्पर्श करने से, जहां संक्रमित व्यक्ति ने छुआ, खाँसा या छींका हो। कोरोना वायरस ऐसी सतहों पर कई घंटो तक रह सकते हैं। इस बीमारी के हवा से भी फैलने की संभावना है, क्योंकि खांसने और छींकने से हवा में दो मीटर दूर तक बूंदे फैलती हैं। ऐसे में इन परिस्थितियों में भी काम करने में काफी जोखिम रहता है। 

कोरोना वायरस को फैलने से कैसे रोका जाये ?


अपना हाथ साफ़ रखें:



 
हाथ कई सतहों को छूते हैं, फिर इन हाथों को ही हम आंख, नाक और मुंह पर लगाते हैं, जिस कारण वायरस हमारे शरीर के अंदर प्रवेश कर सकता है। इसलिए वायरस से बचने के लिए दो घंटे में कम से कम एक बार हाथों को अच्छे से धोना जरूरी है। 

यदि आपके पास पर्याप्त पानी है, तो अपने हाथों को साबुन से अच्छी तरह से धोएं। साबुन को अपनी उंगलियों के चारों ओर, उनके बीच और नाखूनों के नीचे, अपनी हथेलियों पर और अपने हाथों के पीछे की तरफ से लगभग 20 सेकंड तक रगड़ें और फिर उन्हें धो लें ।

यदि आपके पास हैंड सैनिटाइजर है, तो अपने हाथों पर लगभग एक चम्मच हैंड सैनिटाइजर डालें और हाथों को उंगलियों, हाथों के बीच और नाखूनों के बीच, हथेलियों पर और हाथों के पीछे से लगभग 20 सेकंड तक रगड़ें। लेकिन सैनिटाइजर के उपयोग के बाद हाथों को न धोएं।

बार बार अपने चेहरे को छूने से बचे।  खासकर नाक होठ और आंख।  सीढ़ियों की रेलिंग दरवाजो के हैंडल कुर्सी स्मार्ट फ़ोन और ऐसी कोई भी सतह जो कि लोगो द्वारा बार बार छुई जाती हों उन्हें न छुए।  


बाजार, मॉल, थिएटर, बस टर्मिनल, हवाई अड्डों जैसी लंबी कतारों और भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचें। यदि ऐसा संभव नहीं है तो लोगों से सुरक्षित दूरी बनाए रखें।  अगर आप भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाते हैं तो  खुद को सुरक्षित रखें।

कोविड-19 बहुत तेजी से फैलता है, किसी को अपने कार्यस्थल और भीड़भाड़ वाले स्थानों पर और दूसरों के साथ बातचीत करते समय अपने आप को बचाने की आवश्यकता होती है।

जब आप किसी संक्रमित व्यक्ति से समीप होते या संपर्क में आते हैं तो संक्रमित होने से बचने के लिए मास्क का उपयोग करने की सलाह दी जाती है। अगर आपके पास मास्क नहीं है तो इसके लिए आप एक साफ रूमाल/चुन्नी या किसी अन्य साफ कपड़े का उपयोग कर सकते हैं। आपको अपनी नाक और मुंह को ढंकने के लिए रूमाल/चुन्नी की कम से कम 3 परत बनाते हुए उसे मस्क की तरह मुंह पर बांध सकते हैं। 

मास्क या रूमाल का उपयोग करते समय, कुछ एहतियात बरतने की आवश्यकता होती है:-

corona-virus-se-bachne-ke-upay


  • मास्क के बाहरी और अंदर के हिस्से को याद रखने के लिए उसमें निशान लगा लें। 
  • रूमाल को चेहरे पर लगाने से पहले अपने हाथों को साबुन और पानी से साफ करें और फिर मास्क पहनें।
  • नाक और मुंह दोनों को कवर किया जाना चाहिए और चेहरे और रूमाल/मास्क के बीच कोई अंतर नहीं होना चाहिए।
  • कोशिश करें कि मास्क को छूते या एडजस्ट न करते रहें और मास्क के सामने वाले हिस्से को बिल्कुल भी टच न करें।
  • यदि आपने अपने रूमाल के सामने के हिस्से को छुआ है, तो अपने हाथों को साफ करें।


निपटान/सफाई


यदि मास्क के तौर पर रूमाल का उपयोग कर रहे हैं, हर 6 घंटे या गीला/नम होने पर इसे बदलें। 
रूमाल को साफ करने के लिए इसे गर्म पानी और साबुन में धोएं और इसे धूप में सुखाएं। 
यदि आप मास्क का उपयोग कर रहे हैं, तो इसे भी 5 से 6 घंटों में या जब आपको लगता है, कि यह नम हो गया है तो इसे बदल दें। 


बाहर से घर वापस आने के बाद सावधानियां


  • चाभियो को किसी बाॅक्स या सुरक्षित स्थान पर रखें। 
  • अपने कपड़े बदलें और उन्हें धोएं। यदि आप धो नहीं सकते हैं, तो उन्हें एक पॉलिथीन बैग के अंदर अलग से रखें। अगले दिन, आप घर से बाहर कदम रखने से पहले उन्हें पहन सकते हैं।
  • रेलिंग, हैंडल, डोर नॉब, चेयर आर्म्स, स्मार्ट फोन, डायल पैड, कंप्यूटर के प्रमुख पैड, लिफ्ट एलीवेटर बटन, डोरबेल्स को छूते समय सावधान रहें। 
  • पोषण:  संतुलित भोजन करें  (चावल, दाल, हरी सब्जियां, पत्तेदार साग, मांस, दूध, दही, पपीता, अमरूद, संतरे )  जैसी चीजों को  भोजन में सम्मिलित करें ।
  • पर्याप्त आराम करें, व्यायाम/योगा करें और मन व दिमाग को सकारात्मक स्वस्थ ढांचे मे प्रवेश करने दें।

 हमारे देश में अब कोरोना वायरस का टीकाकरण अब प्रारम्भ हो चुका है , धीरे धीरे अब यह बीमारी ख़त्म हो जाएगी। जहां से कोरोना की शुरुआत हुई थी, वहां भी ये बीमारी घटती जा रही है। इसलिए घबनाएं नहीं और न ही उदास हों, जितना हो सके हर परिस्थिति में सकारात्मक रहने का प्रयास करें। क्योंकि नकारात्मक भावनाएं वायरस से लड़ने में आपके शरीर की प्रतिरक्षा और सहनशक्ति को कम कर देंगी। जो आपके स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा नहीं होता। 

कोविड-19 के लक्षण क्या हैं ? (Symptoms of corona in hindi)

corona-virus-se-bachne-ke-upay



कोविड-19 के लक्षण (Symptoms of covid-19 in hindi) बुखार, थकान, गले में खराश और सूखी खांसी हैं। यह बीमारी पहले आम फ्लू की तरह बहुत अधिक प्रतीत होती है। कुछ लोगों की सूंघने और स्वाद जानने की क्षमता में कमी आ जाती है, जबकि पेट में ऐंठन भी महसूस होती है और पेट खराब भी हो सकता है। कई मामलों में आपको साँस लेने में मुश्किल होती है। कोविड-19 को आम फ्लू से अलग करना मुश्किल है, लेकिन अगर ये उपरोक्त लक्षण होते हैं तो कृपया मान लें, कि ये कोविड़-19 है। 

देखभाल कैसे करें?


यदि आपको खांसी या साँस लेने में कठिनाई के साथ बुखार, गले में खराश है, तो आपको कोविड-19 हो सकता है। कोविड-19 के अधिकांश मामले केवल ऊपरी श्वसन मार्ग को प्रभावित करते हैं, (यानी, नाक, मुंह और गले) और अपने आप में सुधार होगा। इसके लिए उपचार किसी भी सामान्य फ्लू जैसा ही है।

कोरोना के लक्षण होने पर निम्न कार्य करें


  • बिस्तर पर आराम करें।
  • अधिक मात्रा में तरल पदार्थ पीएं।
  • यदि आवश्यक हो तो पेरासिट्रामोल (Crocin या डोलो 650 मिलीग्राम हर 8 घंटे) लें।
  • एंटीहिस्टमीन (Cetirizine 10 mg दिन में एक बार या  Avil 25 mg दिन में 2-3 बार लें)
  • स्टीम इनहेलेशन लें (जितना गर्म आप इसे सहन कर सकते हैं)
  • गर्म नमक के पानी से गरारे करें और
  • बुखार या शरीर में दर्द होने पर Ibuprofen (Brufen)। इसे (Combiflam, Ibugesic या किसी अन्य ब्रांड) के साथ भी न लें।
  • परिवार के सदस्यों से खुद को अलग करें। इस बीमारी के दौरान दूसरों से कम से कम 2 मीटर की दूरी पर रहें और उन्हें स्पर्श न करें।


परिवार के सदस्यों में से किसी को लंक्षण हैं तो,

  • परिवार में दूसरों, बड़ों को महामारी के जोखिम के बारे में समझाएं और उन्हें खुद को अलग करने के लिए मना लें। उन्हें अलग करने के लिए मजबूर न करें।
  • शारीरिक दूरी बनाए रखें, लेकिन उनसे स्नेह और प्यार से बात करें।
  • उन्हें अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के साथ संक्रमण से निपटने में मदद करें।
 

रोगी के घर में सामान्य सावधानियां


  • उपयोग किए जाने वाले सभी बर्तन रसोई के डिटर्जेंट के साथ तुरंत और सावधानी से धोए जाने चाहिए। उसी समय ध्यान से हाथ भी धोएं।
  • कपड़ों को ध्यान से धोएं। यह भी रोगी को नहीं करना चाहिए।
  • दिन में दो बार फिनाइल, लाइसोल आदि जैसे कीटाणुनाशक से कमरे को पोछें।
  • बड़ों या छोटे बच्चों को हर कीमत पर मरीज के पास न जाने दें।
  • रोगी अपने बर्तन साबुन के पानी में डाल सकता है और कोई अन्य व्यक्ति इसे 15-20 मिनट के बाद धो सकता है। 

यही प्रक्रिया उपयोग किए गए कपड़ों के साथ ही उपयोग में लाई जा सकती है। 
यह सभी कार्य व्यक्ति के ठीक होने तक जारी रखें। अधिकांश मामले (80 प्रतिशत) पूरी तरह से ठीक हो जाएंगे। संक्रमित लोगों में से लगभग 20 प्रतिशत लोगों को शॉक (गिडनेस, पल्स रेट गिरने या बेहोशी), सांस लेने में कठिनाई जैसे निमोनिया के लक्षण और बुखार/गले में खराश कम न हो। ये 70 साल से ज्यादा की उम्र वाले लोगों में होने की संभावना ज्यादा है या हृदय रोग, मधुमेह या उच्च रक्तचाप जैसी बीमारी है। ये स्थिति भी तब होंगी, जब ये बीमारियां नियंत्रण में न हों। यदि बीमारी के ये लक्षण दिखाई देते हैं, तो एम्बुलेंस को कॉल करें और तुरंत एक योग्य चिकित्सक से चिकित्सा प्राप्त करें।


 
नया पेज पुराने