Dry socket kya hota hai - ड्राई सॉकेट क्या होता है ?

Kya hota hai dry socket


ड्राई सॉकेट (Dry socket) यानि दांतो  निकालने के बाद होने वाली समस्या 

आर्टिकल में आप जानेंगे की 

Dry socket kya hota hai  ?

ड्राई सॉकेट का क्या इलाज है ?

ड्राई सॉकेट कितने दिन में ठीक  होता है ?

इसका घरेलु इलाज क्या है ?

Kya hota hai Dry socket?

ड्राई सॉकेट एक बेहद ही दर्दनाक कंडीशन है, जो की दांत निकलवाने के ४थे या ६वे दिन होती है। ड्राई सॉकेट होने पर दांत में दर्द होने के साथ ही मुँह से दुर्गंद भी आना शुरू हो जाती है। 

Kaise hota hai Dry socket ?

दांत निकलवाने के बाद बनी हुई खाली जगह को सॉकेट कहते हैं।  दांत निकलने के बाद यह सॉकेट खून से भर जाता है। सॉकेट में खून का थक्का (Blood clot) बन जाता है, जोकि हड्डी की हिफाजत करता है और साथ ही सॉकेट में कुछ जाने से रोकता है।  कभी कभी बहुत तेज़ी से कुल्ला या धूम्रपान करने या गर्भनिरोघक गोलिया खाने की वजह से यह ब्लड क्लॉट सॉकेट से disloged हो जाता है।  जिसकी वजह से सॉकेट में मौजूद bone expose हो जाती है।  
इन एक्सपोज़ बोन में तंत्रिका तंतु होते है जो दर्द के सिग्नल को दिमाग तक पहुंचाते है 

Dry Socket ke lakshan - ड्राई सॉकेट के लक्षण 

  • मुँह में तेज दर्द के साथ ही सूजन 
  • मुँह और सांसो  दुर्गन्ध काआना 
  • हल्का बुखार 
  • गर्दन कान और आँख में दर्द होना 
  • मुँह का स्वाद बिगड़ा हुआ रहना 

Dry sockey ka gharelu ilaaj - ड्राई सॉकेट का घरेलु इलाज 

वैसे तो ड्राई सॉकेट होने पर आपको तुरंत ही अपने डॉक्टर को मिलना चाहिए।  परन्तु अगर आप इस कंडीशन में नहीं हैं कि तुरंत डॉक्टर को दिखा सकें तो नीचे हम आपको कुछ घरेलु टिप्स देते हैं 

1. लौंग का तेल

Laung ka tel dry socket


यह समस्या होने पर आप लौंग ते का इस्तेमाल कर सकते हैं। साफ़ कॉटन लेकर इसे लौंग के तेल में डालकर निचोड़ ले। इसको बहुत ही सावधानी से सॉकेट के अंदर रखे।  आप इसे दिन में 2-3 बाद इस्तेमाल कर सकते हैं 

2. नमक पानी

आधे गिलास हल्के गर्म पानी में एक बड़ी चम्मच नमक को अच्छी तरह घोल लें।  फिर धीरे धीरे इससे कुल्ला करें।  इसको करने से जल्द ही आपको आराम मिल जायेगा 

3. टी बैग

tea bag in dry socket in hindi


टी बैग को भी दर्द वाली जगह पर लगाने से दर्द में आराम मिल जाता है।  चाय में टैनिक एसिड (Tannic acid) होता है, जोकि एन्टीइन्फ्लैमटोरी का काम करता है।  यह एक नेचुरल एंटीबैक्टीरियल भी होता है जिसके इस्तेमाल से दर्द और सूजन ठीक हो  जाता है।  

4. दही

curd in dry socket


दही भी एक नेचुरल एंटीबायोटिक है।  इसका भी इस्तेमाल आप ड्राई सॉकेट दे दर्द के लिए कर सकते हैं 


5. हल्‍दी पाउडर

ड्राई सॉकेट होने पर हलके गर्म पानी में थोड़ी सी हल्दी मिलाकर इससे कुल्ला करे।  हल्दी में एंटीबैक्टेरियल और एन्टीइन्फ्लैमटोरी गुण होते है जिसकी वजह से भी अपने दर्द में आराम मिल जाता है 






नया पेज पुराने